घर की खिड़कियों
के लिए भी है अलग वास्तु


By Priyanka
06 September 2021
www.herzindagi.com

घर में शांति, भाग्य, समृद्धि, सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा लाने के लिए घर के दरवाजे और खिड़कियां भी जिम्मेदार होते हैं।

वास्तु के हिसाब से यदि उन्हें उचित दिशा में नहीं रखा जाता है, तो ये घर के निवासियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं और नकारात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश कर सकती है।

घर में खिड़कियां बनाते समय वास्तु के कुछ नियमों का पालन करना जरूरी माना जाता है। आइए जानें घर की खिड़कियों से जुड़े कुछ वास्तु टिप्स के बारे में।

# दरवाज़ों के विपरीत हों खिड़कियां

वास्तु के अनुसार खिड़कियां हमेशा दरवाजों के विपरीत होनी चाहिए ताकि सकारात्मक चक्र पूरे हो सके। इससे परिवार को सुख और उन्नति मिलती है।

# घर में खिड़कियों की शुभ संख्या

वास्तु के अनुसार घर में कुछ चीज़ों के लिए सम अंक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इस प्रकार, हमेशा याद रखें कि एक घर में 2, 4, 6, 8 जैसी संख्या में खिड़कियां होनी चाहिए। इससे घर के लोगों के बीच सामंजस्य बना रहता है।

# कैसे करें खिड़कियों की गिनती

कई बार एक खिड़की में 2 या 3 पल्ले हो सकते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के हिसाब से इसे केवल एक खिड़की के रूप में गिना जाता है। कभी भी खिड़की की संख्या देखने के लिए खिड़की के पल्ले नहीं गिने जाते हैं।

# घर में खिड़कियों की दिशा

ध्यान में रखें कि खिड़कियां अधिक से अधिक संख्या में दक्षिण और पश्चिम दिशा की बजाय उत्तर और पूर्व दिशा में खुलनी चाहिए क्योंकि यह शुभ माना जाता है।

# खिड़कियों का आकार

अनियमित आकार और स्वचालित खिड़कियों से बचें। हमेशा ध्यान रखें कि घर की सभी खिड़कियों का आकार चौड़ाई में भिन्न हो सकता है लेकिन ऊंचाई में नहीं।

# टूटी खिड़कियों को तुरंत बदलें

यदि आपकी खिड़की का कांच कभी टूट जाता है तो इसको तुरंत बदलना चाहिए। टूटी हुई खिड़की नकारात्मकता को घर के भीतर लाती है और बीमारियों का कारण बनती है।

# खिड़कियों में न रखें कोई सामान

कई बार हम खिड़की के बीच में कोई सामन जैसे गमले आदि रख देते हैं जो सकारात्मक ऊर्जा के प्रवेश में बाधा उत्पन्न करते हैं। इसलिए खिड़की में कोई सामन न रखें जो घर में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवेश को रोक सके।

# खिड़की में लगाएं ऐसे पर्दे

हमेशा ध्यान रखें कि दक्षिण दिशा में को खिड़की होती है उन पर भारी पर्दे लगाने चाहिए जिससे दक्षिण दिशा से धूप भीतर ना आ सके। इस दिशा से यदि धूप घर में प्रवेश करती है तो यह बीमारियों का कारण बनती है।

# डाइनिंग एरिया की खिड़कियां

वास्तु के हिसाब से डाइनिंग एरिया में खिड़कियां थोड़ी बड़ी होनी चाहिए और इन्हें डाइनिंग एरिया के पूर्व, उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा में खुलना चाहिए। खिड़कियों के लिए यह दिशा समृद्धि, प्रगति और स्वास्थ्य लाती है और सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है।

# किचन की खिड़की

वास्तु शास्त्र के हिसाब से किचन में खिड़की जरूर होनी चाहिए। इसकी सही दिशा पूर्व या उत्तर होनी चाहिए। किचन की खिड़की कभी भी दक्षिण की दिशा में नहीं खुलनी चाहिए।

वास्तु के हिसाब से घर की सारी खिड़कियां सुबह और शाम के समय जरूर खोलनी चाहिए। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट herzindagi.com के साथ।