भारतीय पतियों की फालतू उम्मीदें


Bhaya Shri Singh
www.herzindagi.com

    पुरुष चाहे कितने भी मॉडर्न हो जाएं लेकिन भारतीय मर्दों के मन में बैठी पितृसत्ता महिलाओं को बराबरी से ट्रीट नहीं करती है।

    भारतीय पति अक्सर शादी के नाम पर पत्नी से अजीब सी उम्मीदें रखते हैं। जानें इनकी बेवजह की डिमांड।

खाना पत्नी बनाए

    ज़्यादातर भारतीय पति उम्मीद करते हैं कि खाना पत्नी ही बनाए।

करते हैं ये बहाने

    पत्नी से खाना बनवाने की जिद में ज्यादातर पुरुष मेड का खाना ना पसंद होने का बहाना करते हैं।

वर्किंग वीमेन के साथ समस्या

    पत्नी अगर वर्किंग भी है तो अधिकतर पुरुष ये उम्मीद करते हैं कि ऑफिस से आने के बाद पत्नी सीधे किचन में जुट जाए।

कितना बदला है मॉडर्न पुरुष?

    हालांकि समय के साथ कुछ पुरुषों में बदलाव भी आया है। ऐसे में कुछ कामों में वो कभी-2 पत्नी का हाथ बंटा देते हैं।

बर्तन पत्नी धोये

    खाने के बाद अक्सर पति ये उम्मीद करते हैं कि पत्नी ही बर्तन धोये। मानो खुद के बर्तन साफ करने में उनकी मर्दानगी कम हो जाएगी।

बच्चे की डिमांड

    औरतों ही प्राक्रतिक रूप से बच्चों को जन्म दे सकती हैं। लेकिन शादी के 9 महीने बाद ही महिलाओं से ये उम्मीद की जाती है।

बच्चे की जिम्मेदारी संभाले

    बच्चे की अच्छी परवरिश केवल औरत ही करेगी भारतीय पतियों का ये लॉजिक समझ से परे है।

बच्चे का सरनेम

    भारत के पितृसत्तात्मक समाज में बच्चों के नाम में हमेशा पिता का सरनेम ही जोड़ा जाता है।

देखरेख करे स्त्री

    लेकिन बच्चे की सूसू और पॉटी साफ करने की जिम्मेदारी उठाने की उम्मीद पति हमेशा पत्नियों से ही करते हैं।

पत्नी ना करे शिकायत

    ज्यादातर भारतीय पति ऑफिस की पूरी भड़ास पत्नी पर निकालते हैं। लेकिन अगर पत्नी की परेशानियां सुनना पसंद नहीं करते हैं।

ससुराल हो प्राथमिकता

    ज्यादातर भारतीय पति चाहते हैं कि पत्नी ससुराल को खुद से ज्यादा प्राथमिकता दे। लेकिन खुद ऐसा नहीं करते हैं।

    स्टोरी अच्छी लगी तो इसे लाइक और शेयर जरूर करें। ऐसी अन्य स्टोरीज के लिए क्लिक करें herzindagi.com