हनुमान जी के इन नामों के पीछे छिपा है एक अनोखा रहस्य


Megha Jain
2022-12-31,10:59 IST
www.herzindagi.com

    पवनपुत्र हनुमान को कई नामों से पुकारा जाता है। हनुमान चालीसा में उनके नामों का वर्णन हैं और हर नाम के पीछे एक रोचक कथा छिपी हुई है। इन नामों से जुड़े मंत्रों को जपने से सारे विघ्न टल जाते हैं और शपलता मिलती है। चलिए, उनके नाम के पीछे की कथा के बारे में जान लें -

अंजनीसुत

    हनुमान जी ने कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को प्रदोषकाल में जन्म लिया था। इसी कारण से वे अंजनीसुत कहलाए जाते हैं।

हनुमान

    बाल अवस्था में इंद्र देव ने उन पर वज्र से प्रहार किया था। इस वजह से उनकी ठुड्डी टेड़ी हो गई थी। ठुड्डी को हनु कहा जाता है। तब से उनका नाम हनुमान पड़ गया।

महाबल

    हनुमान जी के बल के कारण ही स्वर्ण लंका कुछ ही पल में राख का ढेर बन गई थी। इसलिए, हनुमान जी को महाबली कहा जाता है।

वायुपुत्र

    बजरंगबली का जन्म वायु देव के आशीर्वाद से हुआ था और पवन देव उनके मानस पुत्र भी हैं। इसलिए, उनका एक नाम वायुपुत्र भी है।

पिंगाक्ष

    पिंगाक्ष का अर्थ आंखों में हल्के लाल और पीले रंग की परत बनना होता है। हनुमान जी के नेत्रों में ऐसी परत बनने का उल्लेख है। इसलिए उनका एक नाम पिंगाक्ष भी है।

फाल्गुनसखा

    फाल्गुन का अर्थ अर्जुन और सखा का अर्थ मित्र होता है। यानी कि वे अर्जुन के मित्र हैं। इसलिए, उनका एक नाम फाल्गुनसखा भी है।

लक्ष्मण प्राणदाता

    जब हनुमान जी लक्ष्मण की रक्षा के लिए संजीवनी बूटी लाए थे। तभी से उन्हें लक्ष्मण प्राणदाता के नाम से भी जाना जाता है।

    अगर आप भी हनुमान जी के भक्त हैं तो, उनके नामों से जुड़ा ये रहस्य जरूर जानें। स्टोरी अच्छी लगी हो तो लाइक और शेयर करें। इससे जुड़ी अन्य जानकारी के लिए यहां क्लिक करें herzindagi.com।