बच्चों के डायपर रैशेज का रखें ख्याल


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    छोटे बच्‍चों को लंबे समय तक डायपर पहनाने की वजह से अक्सर रैशेज हो जाते हैं। इससे बच्चों को कई तरह की परेशानी हो सकती है। आइए जानें इस परेशानी से बचने के लिए क्या करना चाहिए?

समय से डायपर बदलें

    बेबी को डायपर रैशेज से बचाने का सबसे सही और आसान तरीका है, इसे समय पर चेंज करते रहना। गीले डायपर को समय पर नहीं बदलने से ही रैशेज या इंफेक्शन जैसी समस्या होती है।

अल्ट्रा थिन डायपर का करें यूज

    मोटे डायपर में एयर सर्कुलेशन नहीं होने की वजह से रैशेज की समस्या होती है, लेकिन अल्ट्रा थिन डायपर काफी पतले और ज्यादा सॉफ्ट होते हैं, जो बेबी को रैशेज से बचा सकते हैं।

बच्चों के स्किन को रगड़कर साफ न करें

    यूरीन और स्टूल के बाद बच्चों की त्वचा को हल्के हाथों से साफ करें। सफाई के लिए गुनगुने पानी और मुलायम कपड़े का इस्तेमाल कर सकते हैं। साफ करने के बाद क्रीम जरूर लगाएं।

सही साइज चुनें

    बेबी का डायपर चुनते समय साइज का ध्यान रखें क्योंकि अगर बड़ा हुआ तो बच्चे की त्वचा पर बार-बार रगड़ खाएगा और छोटा हुआ तो यूरीन और स्टूल बच्चे की त्वचा में लग जाएंगे, जिससे रैशेज हो सकती हैं।

डायपर को टाइट से न बांधें

    बच्चों के स्किन काफी सॉफ्ट होते हैं। ऐसे में यह ख्याल जरूर रखें कि डायपर ज्यादा टाइट से न बांधें क्योंकि इससे रैशेज पड़ सकते हैं और बच्चों को चलने में भी असहज होगा।

डायपर फ्री टाइम

    यकीनन डायपर का इस्तेमाल काफी सुविधाजनक है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका हमेशा इस्तेमाल किया जाए। कुछ समय स्किन को सांस भी लेने दें।

स्किन को करें साफ

    ध्यान रहें कि जब भी डायपर चेंज करें, बच्चे के स्किन को अच्छी तरह सूखने दें। स्किन साफ करने के लिए बच्चों के वाइप्स का इस्तेमाल कर सकती हैं, जिसमें कोई फ्रेगरेंस न हो।

पहनाएं कॉटन के कपड़े

    अगर बच्चे को डायपर से रैशेज हो गए हैं तो उसे टाइट, रबर या सिंथेटिक बॉटम पहनाने से बचें। इस दौरान बच्चे को कॉटन के लूज कपड़े पहनाएं।

नारियल तेल का इस्तेमाल

    नारियल के तेल में एंटीफंगल और एंटीइंफेक्शनल गुण होते हैं, जो रैशेज में आराम देते हैं। इसे बच्चों के स्किन पर हल्के हाथों से लगाएं, यह एक परफेक्ट मॉइश्चराइजर का भी काम करता है।

एलोवेरा जेल का इस्तेमाल

    एलोवेरा में कई औषधीय गुण होते हैं, जो स्किन के रैशेज को कम कर सकते हैं। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण त्वचा पर होने वाले इंफेक्शन को दूर करते हैं।

सेंधा नमक

    सेंधा नमक में सूजन-रोधी गुण और उच्‍च मात्रा में मैग्‍नीशियम होता है, जो त्‍वचा की जलन और सूजन को कम करने में मदद करता है।

सेंधा नमक का ऐसे करें यूज

    इसके लिए एक टब पानी में आधा कप सेंधा नमक डालें और इस पानी में बच्चे को 15 से 20 मिनट तक बैठाकर रखें। ये उपाय वीक में दो से तीन बार करने से फायदा मिलेगा।

    स्टोरी अच्छी लगी तो इसे लाइक और शेयर जरूर करें। ऐसी अन्य स्टोरीज के लिए क्लिक करें