By Samvida Tiwari

गुरुवार व्रत में ध्यान रखें ये बातें

23 April 2021 www.herzindagi.com

अगर आप गुरूवार का व्रत करती हैं तो यहां बताई गयी बातों का विशेष ध्यान रखने से घर में सुख शांति का निवास होगा।

# कब शुरू करें व्रत

किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के पहले गुरूवार से शुरू करें। व्रत का संकल्प लेकर 16 गुरूवार तक रखा जा सकता है। आप इस व्रत को लगातार प्रत्येक गुरूवार 3 साल तक रख सकती हैं। इसके पश्चात इसका उद्यापन करके इसे दोबारा शुरू किया जा सकता है।

# केले का सेवन न करें

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार केले के पेड़ में देवगुरु बृहस्पति जी का वास होता है, तो वहीं पुराणों के अनुसार केले के वृक्ष में भगवान विष्णु निवास करते हैं और इसलिए गुरुवार के दिन केले के पेड़ की पूजा की जाती है। चूंकि केले के पेड़ की पूजा करके आरती की जाती है इसलिए इस दिन केले का सेवन वर्जित माना जाता है।

# पीली वस्तुओं का करें दान

गुरूवार के दिन पीली वस्तु, जैसे- गुड़, पीला कपड़ा, चने की दाल, केला आदि भगवान को अर्पित करके गरीबों को दान करना चाहिए। दान करने से भगवान् विष्णु और बृहस्पति देव की विशेष कृपा दृष्टि प्राप्त होती है।

# न करें चावल या खिचड़ी का सेवन

इस दिन भूलकर भी काली दाल की खिचड़ी का सेवन न करें और साथ ही चावल का सेवन करने से भी बचें। कहा जाता है कि इस दिन चावल का सेवन करने से धन की हानि होती है।

# गाय को रोटी खिलाएं

ऐसी मान्यता है कि गाय में 33 करोड़ देवों का वास होता है, इसलिए ऐसा माना जाता है, कि गुरूवार के दिन गाय को रोटी और गुड़ खिलाने से सभी कष्टों का निवारण होता है, अतः गाय को गुड़ और रोटी अवश्य खिलाएं।

# बाल और नाखून न काटें

गुरुवार के दिन नाखून काटना, बाल कटवाना, दाढ़ी बनाना वर्जित होता है। ऐसी मान्यता है कि गुरुवार के दिन ये सारे काम करने से गुरु ग्रह कमजोर होने लगते हैं और गुरु के कमजोर होते ही धन हानि होने लगती है। गुरुवार के दिन महिलाओं को बाल धोने और कपड़े धोने की भी मनाही होती है।

# पीले वस्त्र धारण करें

भगवान विष्णु को पीला रंग अति प्रिय है इसलिए इस दिन पीले रंग का अधिक से अधिक उपयोग करना चाहिए। यहां तक कि यदि आप व्रत और पूजन करती हैं तो आप खुद भी पीले रंग के वस्त्र धारण करें और विष्णु जी को भी पीले रंग के वस्त्र अर्पित करें. पूजा में पीले रंग के फूल, पीला चंदन, चने की दाल, केसर, बेसन का लड्डू आदि का इस्तेमाल करें।

इस तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट herzindagi.com के साथ।