हेल्दी कुकिंग ऑयल कैसे चुनें? जानें


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    क्या आपको मालूम है, विश्व के 60% दिल के मरीज भारत में हैं। इसके मुख्य कारण हैं, गलत खानपान और गलत लाइफस्टाइल। सही इंग्रेडिएंट्स के कॉम्बिनेशन से हम अपने खाने को हेल्दी बना सकते हैं।

    आज हम ऐसे 5 इंग्रेडिएंट्स के बारे में बताएंगे, जो कुकिंग ऑयल की गुणवत्ता को बढ़ाता है। कुकिंग ऑयल खरीदते समय इन इंग्रेडिएंट्स को चेक कर ही खरीदें।

ओमेगा-3

    ओमेगा-3 इन्फ्लैमेशन से लड़ता है और साथ ही कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल में रखता है। यह ज्यादातर सीफूड में मिलता है, लेकिन अगर आप वेजेटे‌रियन हैं, तो आपके कुकिंग ऑयल में ओमेगा-3 का होना बहुत जरूरी है

ओमेगा-6 से ओमेगा-3 का अनुपात

    कुकिंग ऑयल में ओमेगा-6 से ओमेगा-3 का अनुपात 5 और 10 के बीच होना चाहिए। यह अनुपात हमारे सेहत के लिए अच्छा है। यह अनुपात हमारे दिल की सेहत के लिए फायदेमंद है।

हाई मोनोसैचुरेटेड फैटी एसिड्स

    मोनोसैचुरेटेड फैट्स के कई फायदे होते हैं। यह खाना बनाते समय तेल के एब्जॉर्प्शन को कम करते हैं, जिससे खाना हल्का बनता है। यह न्यूट्रिएंट्स को बनाए रखने में भी मदद करते है

लोअर सैचुरेटेड फैट्स

    घी, नारियल तेल और बेकरी प्रॉडक्ट्स से हम काफी मात्रा में सैचुरेटेड फैट्स लेते रहते हैं। यह मोटापा बढ़ा सकता है। इसलिए कुकिंग ऑयल चेक करके ही खरीदें।

गामा ओरिजिनल

    यह खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता हैं। दिल की सेहत को लेकर अगर सजग हैं तो तेल की की-इंग्रेडिएंट्स में इसे देखकर ही खरीदें।

विटामिन-ए, डी और ई

    कुकिंग ऑयल खरीदते समय उसके की-इंग्रेडिएंट्स में अगर ये विटामिन्स मौजूद हैं तो वो आपके सेहत के लिए अच्छा माना जाता है।

इंग्रेडिएंट्स को देखकर खरीदें

    ध्यान रखें कि तेल के इंग्रेडिएंट्स की सूची में सबसे ऊपर लिखे दो या तीन इंग्रेडिएंट्स ही महत्वपूर्ण होते हैं, बाकी सभी बहुत ही कम मात्रा में होते हैं।

दो अलग-अलग तेल का यूज करें

    अपनी डाइट को परफेक्ट बनाने के लिए कुकिंग के लिए एक से ज्यादा तेल का इस्तेमाल करना चाहिए, जिसमें दोनों ही तेल के इंग्रेडिएंट्स बिल्कुल अलग हों, ताकि आपको सारा पोषण मिल सके।

तिल का तेल खाएं

    इससे बीमारियों से लड़ने की क्षमता मिलती है। साथ ही यह खाने में स्वादिष्ट होता है। तिल का तेल डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

सूरजमुखी के तेल

    सूरजमुखी के तेल में विटामिन-ई की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इससे फैट बर्न होता है और साथ ही दिल भी हेल्दी रहता है। कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है और खाने में स्वाद बढ़ाने का काम भी क

सलाह

    दिल की सेहत को मजबूत बनाए रखना है तो बढ़ती उम्र के साथ तली-भुनी हुई चीजों का सेवन कम करें।

    स्टोरी अच्छी लगी हो तो शेयर करें। साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी जानने के लिए क्लिक करें herzindagi.com