जमीन पर बैठकर खाने के फायदे

By Smriti Kiran 29 September 2021 www.herzindagi.com

इन दिनों हर कोई वेस्टर्न कल्चर को अपना रहा है। घर में तो लोग बेड या कुर्सी पर बैठकर खाना खाते हैं, लेकिन शादी-विवाह में बुफे सिस्टम में लोग खड़े होकर ही खाना खाते हैं।

भारतीय परंपरा में जमीन पर बैठकर भोजन करना अच्छा माना जाता है। हालांकि इसके पीछे भी कई कारण हैं। आइए इनके बारे में जानते हैं।

परिवार की निकटता

एक साथ बैठकर खाने से फैमिली बॉंडिंग स्ट्रॉंग होती है। साथ ही इस तरह बैठकर खाने से मानसिक तनाव दूर होते हैं।

ब्लड सर्कुलेशन

जमीन पर बैठकर खाने से ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है। इससे दिल भी सेहतमंद बना रहता है।

बॉडी पॉश्चर रखे ठीक

जमीन पर बैठकर खाने से बॉडी पॉश्चर ठीक रहता है। जो आपके व्यक्तित्व में निखार लाता है।

स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद

जमीन पर बैठकर खाते समय हम आसन मुद्रा में होते हैं। ये मुद्रा हमें शांत बनाती है। यह हमारे स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत लाभप्रद है।

शरीर की मजबूती

इस तरह बैठकर भोजन करने से कूल्हे की मांसपेशियों में लगातार खिंचाव होता है, जिसकी वजह से दर्द और असहजता से छुटकारा मिलता है। साथ ही रीढ़ की हड्डी में आराम मिलता है।

पाचन के लिए बेहतर

जमीन पर बैठकर भोजन करने से शरीर पाचन के लिए बिल्कुल सही अवस्था में रहता है। इस अवस्था में पाचक रस बेहतर तरीके से अपना काम कर पाते हैं।

नेचुरल स्ट्रेंथ

जमीन पर बैठकर जब खाना खाते हैं, तो बॉडी में नेचुरल स्ट्रेंथ पैदा होती है। साथ ही मसल्स भी मजबूत होते हैं।

मोटापा को करे कंट्रोल

जमीन पर बैठना और उठना, एक अच्छा व्यायाम माना जाता है। भोजन करने के लिए जमीन पर बैठना है, तो फिर उठना भी। इस तरह से वजन संतुलित रहता है। साथ ही मोटापा भी कंट्रोल में रहता है।

बॉडी रहे एक्टिव

जमीन पर बैठकर खाना खाने से बॉडी एक्टिव और फलेक्सिबल बनी रहती है। इसतरह से जमीन पर बैठने उठने से मांसपेशियां मजबूत रहती हैं।

घुटनों की एक्सरसाइज

इस तरीके से भोजन करने में घुटने मोड़ने पड़ते हैं, जिससे घुटनों की भी एक्सरसाइज हो जाती है।

जमीन पर बैठकर खाना खाने के कई लाभ आप जान चुके हैं। अब आगे से कोशिश करिए कि ऐसे ही भोजन किया जाए।

हमें उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। इसे लाइक और शेयर करें और इससे संबंधित अन्य लेख पढ़ने के लिए विजिट करें herzindagi.com