By Samvida Tiwari

एथलीट फुट के घरेलू नुस्खे

11 June 2021 www.herzindagi.com

अगर आपके पैरों और उंगलियों के बीच दर्द या खुजली की समस्या है, तो ये एथलीट फुट के लक्षण हो सकते हैं। इससे निजात पाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे कारगर हैं।

# एथलीट फुट

जिसे टिनिया पेडिस भी कहा जाता है - एक संक्रामक कवक संक्रमण है जो पैरों की त्वचा को प्रभावित करता है। यह टोनेल्स और हाथों में भी फैल सकता है। फंगल संक्रमण को एथलीट फुट कहा जाता है क्योंकि यह आमतौर पर एथलीटों में देखा जाता है।

# एथलीट फुट के कारण

एथलीट फुट तब होता है जब पैरों पर टिनिया फंगस बढ़ता है।आप किसी संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से या कवक से दूषित सतहों को छूकर फंगस को पकड़ सकते हैं। कवक गर्म, नम वातावरण में पनपता है।

# टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को जैतून या नारियल के तेल के साथ मिलाएं और इसे प्रभावित क्षेत्र पर दिन में 2-4 बार लगाने से संक्रमण दूर हो जाता है।

# बेकिंग सोडा

एक प्राकृतिक एंटी-फंगल एजेंट की तरह काम करता है। इसके इस्तेमाल के लिए बेकिंग सोडा और पानी का पेस्ट बनाएं और पैरों के संक्रमण से छुटकारा पाने के लिए संक्रमित त्वचा पर लगाएं।

# समुद्री नमक

संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अपने पैरों को 5-10 मिनट के लिए गरम पानी में समुद्री नमक डालकर पानी में पैर को थोड़ी देर के लिए डुबोकर रखें। यह शक्तिशाली एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से युक्त होता है।

# लहसुन का पेस्ट

अपने जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और एंटीसेप्टिक प्रकृति के लिए प्रसिद्ध, लहसुन की लौंग को एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक माना जाता है।कुचला हुआ लहसुन जैतून के तेल या बादाम के तेल में मिलाकर पेस्ट बनाएं और इसका इस्तेमाल प्रभावित स्थान पर करें।

# दही

ताजे दही में मौजूद अच्छे बैक्टीरिया न केवल फंगस को मारते हैं, बल्कि रूखी, जलन वाली त्वचा को भी शांत करते हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए ताजा दही को सीधे प्रभावित हिस्से पर लगाएं।

# सिरका

रोजाना लगभग 10 मिनट के लिए सिरके के घोल में पैरों को डुबोएं जिससे एक अम्लीय वातावरण बनता है, जो पैर के फंगस को पसंद नहीं होता है और संक्रमण को कम करने में मदद करता है।

एथलीट फुट बहुत ज्यादा गंभीर समस्या नहीं है और ये घरेलू नुस्खे इन्हें कम करने का अच्छा उपाय हैं। लेकिन इनके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें और यदि घर पर उपचार से राहत न मिले तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें।

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें herzindagi.com से।