By Smriti Kiran 06 September 2021 www.herzindagi.com

12 तरह के साग के बारे में जानें

ऐसे कई साग हैं, जो पहले हम लोग बड़े ही चाव से खाते थे, लेकिन अब हम उन्हें अपने भोजन में शामिल करना भूल चुके हैं। ये पोषण से भरपूर हैं। आइये इनके बारे में जानते हैं।

# अरबी के पत्तों के साग

इनके पत्तों को खाने में कई प्रकार से यूज किया जा सकता है। कहीं लोग हरी सब्जी बनाते हैं तो कहीं बेसन लगाकर भाप में पकाते हैं। इसके अलावा इसके पकौड़े भी बनाए जाते हैं।

# चौलाई का साग

चौलाई में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन-ए, खनिज और आयरन पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। ये आंखों को दुरुस्त रखने, रक्त बढ़ाने, खून साफ करने, बालों को समय से पहले सफेद होने से बचाता है।

# कुल्फा का साग

कुल्फा साग में एंटीबायोटिक, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल और एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करते हैं।

# कलमी शाक

इसमें मुख्य रूप से कैरोटीन पाया जाता है। इसकी भाजी कुष्ठ रोग, पीलिया, नेत्ररोग और कब्ज के निदान में उपयोगी है। साथ ही ये दांत और हड्डियों को भी मजबूत करती है।

# पोय साग

यह बारहमासी साग है। इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, फोलेट थायमीन, रिबोफ्लेविन, कैल्शियम, आयरन, कॉपर, जिंक, मैग्नीज और मैग्नीशियम पाया जाता है जोकि शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक हैं।

# बथुए का साग

बथुए में विटामिन-ए, आयरन, कैल्शियम, फॉस्फोरस और पोटैशियम काफी मात्रा में पाए जाते हैं। इस साग को खाने से पेट की सभी समस्याएं दूर होती हैं।

# पुनर्नवा का साग

इसकी सफेद और लाल प्रजातियों का यूज खाने में किया जाता है। इसमें मूंग और चने की दाल मिलाकर सब्जी बनाई जाती है जो शरीर को कई बीमारियों से बचाता है।

# सरसों का साग

इसमें कैलोरी कम और फाइबर अधिक होते हैं। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रहता है। इस साग में कैल्शियम और पोटैशियम अच्छी मात्रा में होते हैं, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

# चने का साग

चने के साग में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन व विटामिन पाये जाते हैं। कब्ज, डायबिटीज, पीलिया आदि रोगों में यह बहुत फायदेमंद होता है।

# मेथी का साग

मेथी में प्रोटीन, फाइबर, विटमिन सी, नियासिन, पोटैशियम, आयरन मौजूद होता है। इसमें फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर आदि भी होते हैं, जो शरीर के लिए बेहद जरूरी हैं।

# पालक का साग

पालक को लोग केवल हीमोग्‍लोबिन बढ़ाने वाली स‍ब्‍जी मानते हैं, लेकिन इसके अलावा इसमें कैलोरी, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट, फाइबर और खनिज लवण भी पाए जाते हैं।

# सहजन का साग

सहजन के पौधे के हर भाग का इस्तेमाल किया जाता है। पत्ते और फल खाने में और बीज, फूल व जड़ का उपयोग औषधि के रूप में होता है। ये शुगर, हृदय रोग, एनीमिया, गठिया और अन्य बीमारियों से बचाने में उपयोगी है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट herzindagi.com के साथ