सीता की
जन्म स्थली
सीतामढ़ी

By Sahitya Maurya
11 December 2020
www.herzindagi.com

जानकी माता यानि सीता की जन्म स्थली सीतामढ़ी धार्मिक दृष्टि से बिहार के साथ भारत में भी काफी महत्व रखता है। यहां आज भी दूर-दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं।

अगर आप भी रामायण काल के पौराणिक तथ्यों से रूबरू होना चाहते हैं तो एक बार सीता की जन्म स्थली सीतामढ़ी पहुंचें।

# माता जानकी की जन्म स्थली

जब मिथिला नरेश खेत जोत रहे थे तब उन्हें धरती के अंदर से एक कन्या की प्राप्ति हुई जिनका नाम सीता रखा गया। इस स्थल पर माता जानकी की मूर्ति भी है।

# जानकी मंदिर

यह मंदिर सीतामढ़ी के पुरौना में है। माता सीता जी का यह मंदिर बेहद ही भव्य है। इस मंदिर परिसर के अंदर गयात्री मंदिर, विवाह मंडप मंदिर भी हैं।

# जानकी कुंड

सीतामढ़ी में कहा जाता है कि इसी जगह माता सीता धरती से राजा जनक को प्राप्त हुई थी। इस कुंड के बीचों-बीच माता सीता की मूर्ति है।

# हलेश्वर स्थान

कहा जाता है कि जब मिथिल में भयंकर अकाल पड़ा था तब राजा ने इस मंदिर की स्थापना किया था।

# बगही मठ

सीतामढ़ी के जानकी माता मंदिर के बाद अगर सबसे पवित्र कोई जगह है तो वो है बगही मठ। इस मठ में अमूमन भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट herzindagi.com के साथ।