दहशत की मीनार चोर मीनार के बारे में जानें

By Smriti Kiran
14 September 2021
www.herzindagi.com

कई शासकों ने दिल्ली शहर को अपनी राजधानी बनाया। दिल्ली की ऐतिहासिक इमारतों में अलग-अलग वास्तुकला के नमूने देखे जा सकते हैं। इस शहर ने कई वंशों को फलते-फूलते और मिट्टी में मिलते देखा है।

यहां की कुछ इमारतें शान-ओ-शौकत की गवाही देती हैं, तो कुछ क्रूरता और निर्दयता की। आइए आज हम जानेंगे क्रूरता की इमारत चोर मीनार के बारे में।

# अलाउद्दीन खिलजी

अलाउद्दीन खिलजी का शासन देश में लगभग 20 सालों तक चला। इतिहासकार इसे क्रूर शासक मानते हैं। उसकी क्रूरता की कई कहानियां हैं।

# क्रूर शासक अलाउद्दीन खिलजी

अलाउद्दीन को अगर किसी पर शक भी होता था कि वह उसकी सत्ता या शक्ति के लिए खतरा है तो उसे मरवा देता था। उसने अपने परिवार के भी कई सदस्यों को मरवा दिया था। अपने चाचा जलालुद्दीन की हत्या करके ही अलाउद्दीन दिल्ली का सुल्तान बना था।

# चोर मीनार

करीब 700 साल पहले दिल्ली में चोरों को सजा देने के लिए यह चोर मीनार बनवाई गई थी। यह मीनार लोगों को डराने के लिए जानी जाती थी। आज भी उसकी निशानी मौजूद है। यह इमारत हौज खास एनक्लेव में है।

# दहशत की मीनार

इस मीनार में दोषी का सिर काटकर इसमें मौजूद सुराखों पर रख दिया जाता था या लटका दिया जाता था ताकि लोग इसको देखकर डरें।

# सजा के लिए बनी इमारत

यह मीनार अलाउद्दीन खिलजी (1296-1316) के शासनकाल में बनाई गई थी। ऐसा कहा जाता है कि उस वक्त चोरी करने वालों को सजा देने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था।

# खौफ के लिए बनी इमारत

इस मीनार में 200 से ज्यादा सुराख हैं। इन सुराखों पर दोषियों को काटकर लटकाया जाता था ताकि सल्तनत के खिलाफ कोई कुछ बोलने से डरे।

# क्रूरता की कहानी

सजा देने का यह तरीका अलाउद्दीन की क्रूरता और तानाशाही रवैये को बताता है। उसकी सत्ता के खिलाफ उठने वाली हर आवाज को वो इसी तरह दबाया करता था।

# डरावनी मीनार

चोर मीनार को चोर, डकैत, घुसपैठियों को डराने के लिये बनाया गया था। इस मीनार में 225 छेद थे और हर छेद से मृतकों के सिर लटकाये जाते थे।

# तानाशाही

इतिहासकारों का मानना यह भी है कि अलाउद्दीन खिलजी ने मंगोल लोगों की हत्या करवाई थीं। उन्हीं लोगों के सिर काटकर इस इमारत की सुराखों पर रखे गए थे, ताकि लोग देख सकें।

# गुनहगारों की मीनार

अलाउद्दीन खिलजी की क्रूरता, सख्ती और गुनहगारों को कड़ी सजा देने के किस्से सुनकर भले ही डरावनी हो, लेकिन उस वक्त लोगों को डराने वाली इमारत चोर मीनार आज बिल्कुल नहीं डराती।

# एक बदनसीब इमारत

चोर मीनार की दीवारें सैंकड़ों मौतों की गवाह हैं। आज इस मीनार से गुज़रने पर ये एहसास बिल्कुल नहीं होता कि ये इमारत भी इतिहास की कई बदनसीब इमारतों में से है।

आपको अगर यह स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर करें और साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी जानने के लिए जुड़े रहें herzindagi.com से।