ओरछा का राजा राम मंदिर


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    ओरछा 'राजा राम की नगरी' के रूप में जाना जाता है। पूरे देश में राम की पूजा भगवान के रूप में की जाती है, लेकिन मध्य प्रदेश के ओरछा में राम की पूजा 'राजा' के रूप में की जाती है।

    यहां राम का जो मंदिर है वह 'रामराजा मंदिर' के नाम से जाना जाता है। मध्य प्रदेश सरकार के जवानों की एक टुकड़ी प्रतिदिन पांचों पहर 'रामराजा' को गार्ड ऑफ ऑनर देती है।

ओरछा रानी ने बनवाया

    ओरछा नरेश मधुकर शाह की पत्नी रानी गणेश कुंवर श्रीराम की भक्त थीं। यह मंदिर भगवान राम की मूर्ति की स्थापना के लिए बनवाया गया था।

राजा राम मंदिर

    लेकिन मूर्ति स्थापना के समय यह अपने स्थान से हिली नहीं, जिसकी वजह से महल को ही मंदिर बना दिया गया और नाम रखा गया राम राजा मंदिर।

राम स्टैचू

    इस मंदिर में भगवान राम की मूर्ति का चेहरा मंदिर की ओर न होकर महल की ओर है। इन्हें ओरछा के राजा के रूप में जाना जाता है।

राम मंदिर

    ओरछा के मुख्य चौराहे के एक तरफ राम का मंदिर है तो दूसरी तरफ ओरछा का प्रसिद्ध किला स्थित है।

ओरछा के राजा

    भारत का यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जहां भगवान राम को भगवान नहीं, राजा के रूप में पूजा जाता है।

कलयुग में बने राम राजा

    त्रेतायुग में दशरथ की राम को राजा बनाने की चाह भले अधूरी रह गई थी, लेकिन कलयुग में दशरथ की चाह को ओरछा में राजा मधुकर शाह ने पूरा किया।

मंदिर में मूर्तियां

    इस मंदिर में राजा राम के साथ माता सीता, लक्ष्मण, सुग्रीव, नरसिंह, हनुमान, जामवंत और मां दुर्गा भी राम दरबार में उपस्थित हैं।

निमंत्रण

    ओरछा के रामराजा मंदिर की इतनी मान्यता है कि किसी भी घर-परिवार में कोई भी मांगलिक आयोजन हो तो पहला निमंत्रण कार्ड रामराजा मंदिर में चढ़ाया जाता है।

रिश्वत से डर

    आज भी ओरछा में राजाराम के डर से लोग रिश्वत नहीं लेते हैं और भ्रष्टाचार से डरते हैं।

मंदिर का श्रृगांर

    ऐसी मान्यता है कि यहां राजाराम हर रोज अदृश्य रूप में आते हैं। विशेष पर्वों पर इस मंदिर का श्रृंगार अद्भुत होता है।

पर्व में भक्त

    रामनवमी, श्रावणतीज, विवाह पंचमी व रंग पंचमी पर्व पर ओरछा के रामराजा मंदिर में भक्तों की भीड़ उमड़ती है।

    अगर आप भी मध्य प्रदेश जाने का प्लान कर रहे हैं तो ओरछा का राम मंदिर देखने जरूर जाएं। साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी जानने के लिए क्लिक करें herzindagi.com