यूपी के फेमस मंदिरों के बारे में जानें


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    यूपी में कई प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर हैं। आज हम आपको उन मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जो अपनी भव्यता और कई मान्यताओं के लिए जाने जाते हैं।

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर, अयोध्या

    यह मंदिर भगवान श्रीराम का जन्मस्थान है। सरयू नदी के किनारे बने इस मंदिर का पुनर्निमाण कराया जा रहा है। यहां दीपावली बहुत भव्य तरीके से मनाई जाती है।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर

    मथुरा में यमुना नदी किनारे बना यह मंदिर यूपी के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यहां भगवान श्रीकृष्ण ने जन्म लिया था। यह दिल्ली से करीब 145 किमी दूर है।

गोरखनाथ मंदिर गोरखपुर

    गोरखनाथ मंदिर में लाखों श्रद्धालु देश-विदेश से दर्शन के लिए आते हैं। यह मंदिर नाथ संप्रदाय का महत्वपूर्ण केंद्र है। यह मंदिर करीब 52 एकड़ एरिया में फैला हुआ है।

काशी विश्वनाथ मंदिर

    वाराणसी का काशी विश्वनाथ मंदिर देशभर में बहुत फेमस है। यह भगवान शिव को 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। काशी विश्वनाथ मंदिर को स्वर्ण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

सारनाथ मंदिर वाराणसी

    सारनाथ मंदिर बुद्ध धर्म का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यह वाराणसी से 10 किमी दूर स्थित है। यहीं भगवान बुद्ध ने पहली बार धम्म को पढ़ाया था।

तुलसी मानस मंदिर, वाराणसी

    यह मंदिर भगवान राम को समर्पित है। मंदिर की दीवारों पर रामायण के छंद और दोहा अंकित हैं। बताया जाता है यहीं बैठकर तुलसीदास ने रामायण की रचना की थी।

संकटमोचन मंदिर

    वाराणसी का संकटमोचन मंदिर असी नदी धारा के पास स्थित है। यह मंदिर गोस्वामी तुलसीदास द्वारा स्थापित किया गया था। मंदिर के परिसर में बहुत बंदर रहते हैं।

भारत माता मंदिर, वाराणसी

    भारत माता मंदिर का उद्घाटन साल 1936 में महात्मा गांधी ने किया था। यहां संगमरमर से भारत माता का मानचित्र बनाया गया है

गढ़मुक्तेश्वर मंदिर हापुड़

    मेरठ से करीब 40 किमी दूर स्थित गढ़मुक्तेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यहां कार्तिक पूर्णिमा को विशाल मेला लगता है। यहां सावन में भक्त कांवड़ भी चढ़ाते हैं।

प्रेम मंदिर, मथुरा

    श्रीराधा-कृष्ण और सीता-राम को समर्पित प्रेम मंदिर वृंदावन में स्थित है। यह मंदिर 11 साल में बनकर तैयार हुआ है। 54 एकड़ में फैले इस मंदिर में एक साथ 25,000 लोग आ सकते हैं।

दाऊजी मंदिर, मथुरा

    दाऊजी का मंदिर भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलदेव को समर्पित है। इस मंदिर के चार मुख्य दरवाजे हैं। मंदिर के पीछे एक कुंड है, जिसे क्षीर सागर कहा जाता है।

विंध्यवासिनी मंदिर, मिर्जापुर

    विंध्याचल की पहाड़ियों पर बना विंध्यवासिनी मंदिर मिर्जापुर से 8 किमी दूर है। माता का यह दरबार 51 शक्तिपीठों में से एक है। इसे जागृत शक्तिपीठ के नाम से भी जाना जाता है।

बांके बिहारी मंदिर, मथुरा

    बांके बिहारी मंदिर भारत के प्राचीन और फेमस मंदिरों में से एक है। यह मंदिर वृंदावन धाम में रमण रेती पर स्थित है। इसका निर्माण 1864 में स्वामी हरिदास ने कराया था।

    अगर आपको भी अध्यात्म में रूची है और प्राचिन मंदिरों को देखने का शौक है तो उत्तर प्रदेश जाएं। स्टोरी अच्छी लगी हो तो शेयर करें। साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी के जानने लिए क्लिक करें herzindagi.com