भारत का मिनी स्विट्जरलैंड 'खाज्जिअर'

By Reeta Chaudhary
11 August 2020
www.herzindagi.com

हिमाचल प्रदेश की गोद में बसा 'खाज्जिअर' अपने हरे-भरे पेड़ों, झीलों और प्राकृतिक खूबसूरती के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। आइए इसके इतिहास से लेकर मुख्‍य पर्यटन स्थलों के बारे में जानें।

# कहां स्थित है

यह चंबा जिले के डलहौजी के पास बसा एक छोटा सा शहर है। 6,500 फीट की ऊंचाई पर बसा, बारिश और कोहरे की धूंध में लिपटा यह शहर अपने नौ-छेद वाले गोल्फ कोर्स के लिए जाना जाता है।

# इसे मिनी स्विट्जरलैंड क्‍यों कहते हैं

यहां का नजारा स्विट्जरलैंड की खूबसूरत पहाड़ियों, चारों तरफ फैली हरियाली, नदियों, झीलों जैसा ही है, इसलिए खुद स्विस राजदूत ने 7 जुलाई, 1992 को इसे मिनी स्विटजरलैंड की उपाधि दी थी।

# हिमाचल की सबसे ऊंची मूर्ति यहां है

खाज्जिअर से एक किलोमीटर दूर भगवान शिव की 85 फीट की विशाल प्रतिमा स्थापित है, जो हिमाचल की सबसे ऊंची मूर्ति है। इस मूर्ति को कांस्य में पॉलिश किया गया है, इसलिए यह बहुत चमकती है।

# खज्जी नागा मंदिर जरूर घूमें

12वीं शताब्दी में निर्मित खज्जी नागा मंदिर, नागों को समर्पित एक ऐसा मंदिर है, जहां सर्प मूर्तियां देखने को मिलती है, जिसके मुख्य देवता खज्जी नाग हैं। मंदिर की संरचना लकड़ी के ढांचे की बनी है।

# स्वर्ण देवी मंदिर जरूर जाएं

स्वर्ण देवी मंदिर यहां का प्रमुख दर्शनीय स्थल है जो खाज्जिअर झील के बेहद करीब स्थित है। इस मंदिर का नाम यहां लगे हुए स्वर्ण गुंबद की वजह से रखा गया है। मंदिर के पास एक गोल्फ कोर्स भी है।

# कालाटॉप वन्यजीव अभयारण्य

इस अभयारण्य को वनस्पतियों और जीवों की विविधता के लिए जाना जाता है। इसमें भालू, हिरण, तेंदुआ, लंगूर, सियार और हिमालयन ब्लैक मार्टन के साथ-साथ कई अनगिनत आकर्षक पक्षियों भी हैं।

# यहां जाने के लिए सबसे अच्छा समय

खाज्जिअर साल में किसी भी समय जाया जा सकता हैं। जनवरी-फरवरी में यहां ठंड काफी ज्यादा पड़ती है और बर्फबारी भी होती है, इसलिए इन 2 महीनों में खाज्जिअर जाना थोड़ा मुश्किल भरा हो सकता है।

# कैसे पहुंचे खाज्जिअर

चंबा और डलहौजी सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है, यहां निजी वाहन द्वारा जाया जा सकता हैं। अगर ट्रेन से जाना हो तो निकटतम रेलवे स्टेशन पठानकोट है, यहां से टैक्सी के जरिए जा सकती हैं।

इस तरह की और जानकारी पाने के लिए पढ़ती रहिए herzindagi.com