माता लक्ष्मी
के 9 प्रसिद्ध मंदिर

By Reeta Chaudhary 04 August 2020
www.herzindagi.com

भारत के कई राज्‍यों में महालक्ष्मी के प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर स्थित है। तो चलिए आज उनमें से कुछ सबसे प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानते है।

# चेन्नई का अष्टलक्ष्मी मंदिर

यह मंदिर चेन्नई के इलियट समुद्र तट के पास स्थित है। इसकी खासियत यह है कि यह लगभग 65 फीट लम्बा और 45 फीट चौड़ा है। मंदिर में देवी लक्ष्मी के 8 स्वरूपों की पूजा होती है।

# कोल्हापुर का महालक्ष्मी मंदिर

इस मंदिर का इतिहास बहुत पुराना है। सातवीं शताब्दी में इस मंदिर का निर्माण चालुक्य शासक कर्णदेव ने करवाया था। यह मंदिर अपनी दीवारों पर उकेरी हुई कला-कृतियों के लिए फेमस है।

# तिरुचुरा में स्थित पद्मावती का मंदिर

इस मंदिर को 'अलमेलमंगापुरम' के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है कि तिरुपति बालाजी में मांगी गई मुराद तभी पूरी होती है, जब बालाजी के साथ-साथ देवी पद्मावती का भी आशीर्वाद लें।

# चंबा में स्थित चौरासी मंदिर

यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के चंबा से 65 किलोमीटर दूर भरमौर में स्थित है, जहां देवी लक्ष्मी के साथ-साथ गणेश और नरसिंह भगवान की भी पूजा होती है। यह मंदिर बेहद पुराना है।

# दिल्ली में स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर

इस मंदिर के इतिहास की बात करें तो इसे 1622 में वीरसिंह देव ने बनवाया था। वहीं, सन् 1938 में बिड़ला समूह ने पुनरुद्धार किया, जिसकी वजह से इसे बिड़ला मंदिर भी कहा जाता है।

# चंबा में स्थित लक्ष्मीनारायण का मंदिर

यह मंदिर बहुत विशाल और प्राचीन है। दसवीं शताब्दी में इस मंदिर को राजा साहिल वर्मन ने शिखर शैली में बनवाया था। यह मंदिर अपनी पारंपरिक वास्तुकारी और मूर्तिकला के लिए फेमस है।

# इंदौर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर

इस मंदिर का निर्माण 1832 में मल्हारराव ने कराया था। इस मंदिर की खास बात यह है कि यहां लक्ष्मी की प्रतिमा लगभग सात हजार साल पुरानी है और इसका वजन लगभग 40 किलो है।

# वेल्लू में स्थित महालक्ष्मी मंदिर

यह मंदिर तमिलनाडु के वेल्लू जिले के श्रीपुरम में स्थित है। इसे 'दक्षिण भारत का स्वर्ण मंदिर' भी कहा जाता है। पलार नदी के किनारे स्थित ये मंदिर सौ एकड़ एरिया में फैला हुआ है।

# तिरुअनंतपुरम् का पद्मनाभस्वामी मंदिर

यह केरल के तिरुअनंतपुरम् में मौजूद भगवान विष्णु का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर अपने सोने के खजाने के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। इस मंदिर को त्रावणकोर के राजाओं ने बनाया था।

इस तरह के अन्‍य इंटरेस्टिंग फैक्ट्स जानने के लिए जुड़ी रहिए हमारे साथ। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए पढ़ती रहिए herzindagi.com