करें कसोल के खूबसूरती की सैर


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    पार्वती घाटी की गोद में बसा कासोल हिमाचल प्रदेश का एक छोटा व बेहद खूबसूरत पर्यटन स्थल है। बेहद शांत और कुदरत की खूबसूरती से सराबोर यह पर्वतीय स्थल देखने लायक है।

    कसोल को 'भारत का इजरायल' भी कहा जाता है। पर्यटन के लिहाज यह स्थान काफी उन्नत है। आइए जानें यहां के फेमस टूरिस्ट प्लेसेस के बारे में-

माल रोड

    माल रोड कसौली की वो जगह है, जहां इस शहर की सारी दुकानें, रेस्टोरेंट और क्लब हैं। शाम के समय यह बाजार घूमने लायक है।

क्राइस्ट चर्च

    क्राइस्ट चर्च मॉल रोड शहर के केंद्र में स्थित एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। 1853 में निर्मित यह चर्च अद्भुत नव-गॉथिक वास्तुकला की भव्यता के लिए मशहूर है।

मणिकरण साहिब

    मणिकरण साहिब कसोल में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक मानी जाती है। यहां के गर्म पानी के झरनें आपको पकृति के अलग रूप को दिखाएगी।

खीरगंगा चोटी

    खीरगंगा की हरी-भरी पहाड़ियों के बीच ट्रैकिंग का मजा ले सकते हैं। आप यहां के गर्म पानी के झरनें का आनंद भी उठा सकते हैं।

पार्वती नदी

    मनतलाई ग्लेशियर से निकलने वाली पार्वती नदी कसोल के फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स में से एक है। एडवेंचर लवर्स के लिए यह जगह बेस्ट है।

तीर्थन घाटी

    तीर्थन घाटी कसोल से 60 किमी दूर स्थित है, जो अपने ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के लिए काफी मशहूर है। आप यहां कैंपिंग व ट्रैकिंग का मजा ले सकते हैं। यह जगह नेशनल पार्क के लिए काफी मशहूर है।

तोश गांव

    तोश नदी के तट पर बसा तोश हिमाचल का एक खूबसूरत पहाड़ी गांव है, जो अपनी सरंचना और हिमालयी सौंदर्यता के लिए जाना जाता है। यहां की सैर करना सैलानियों के काफी पसंद आता है।

मलाणा गांव

    हिमालय की गोद में बसा मलाणा एक खूबसूरत व प्राचीन गांव है। भारत और विश्व की संस्कृति से थोड़ा हटकर है। दूर-दूर से लोग इस गांव को देखने के लिए आते हैं।

नेचर पार्क

    नेचर पार्क कसोल में घूमने के लिए बेस्ट जगह है। यहां पर कई फेमस कैफे भी हैं, जहां आप गर्म कॉफी या चाय के साथ नेचर का मजा ले सकते हैं।

श्री गुरु नानकजी गुरुद्वारा

    श्री गुरु नानकजी गुरुद्वारा, कसौली के महत्वपूर्ण धार्मिक केंद्र होने के साथ-साथ एक पसंदीदा पर्यटन स्थल भी है। इस जगह पर रोज भारी संख्या में लोग आते हैं।

गोरखा किला

    गोरखा किला, गोरखा के साहस और वीरता का प्रतीक है। इस किले का निर्माण 1900 ईस्वी में गोरखा सेना के प्रमुख अमर सिंह थापा द्वारा करवाया गया था।

    स्टोरी अच्छी लगी हो तो शेयर करें। साथ ही ट्रैवल से जुड़ी अन्य जानकारी जानने के लिए क्लिक करें herzindagi.com