गोलकोंडा किले से जुड़े तथ्य

By Ankita Bangwal
31 August 2021
www.herzindagi.com

यह किला तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के पास स्थित है। किला 1143 का है, और इसे कुतुब शाही राजवंश द्वारा बनवाया गया था।

अपनी वास्तुकला, पौराणिक कथाओं और इतिहास के लिए मशहूर गोलकोंडा किले के बारे में आप भी जानें।

# सीक्रेट टनल्स

इस किले में कुछ गुप्त सुरंग हैं, जो दरबार हॉल से शुरू होती है और हिल के बॉटम तक एक महल तक जाती है। इसे आज तक कोई नहीं ढूंढ पाया है।

# अमेरिका में प्रेरित तीन जगह

अमेरिका के एरिजोना, इलिनोइस और नेवादा में, एरिजोना और नेवादा के माइनिंग टाउन को भी गोलकोंडा टाउन के नाम से जाना जाता है।

# फेमस डायमंड

कहा जाता है कि दुनियाभर के लोकप्रिय हीरे जैसे कोहिनूर, दरिया-ए-नूर, नूर-उल-ऐन हीरा, और रीजेंट डायमंड की खुदाई यहां की खानों में की गई थी।

# महाकाली का मंदिर

गोलकोंडा के सबसे ऊपर श्री जगदम्बा महा मंदिर स्थित है। यहां लोकप्रिय बोनालू महोत्सव मनाया जाता है।

# 400 साल पुराना पेड़

इस किले के अंदर अफ्रीकी बाओबाब पेड़ है, जो 400 साल पुराना है। कहा जाता है कि अरेबियन ट्रेडर्स ने सुल्तान मोहम्मद कुली कुतुब शाह को यह पेड़ तोहफे में दिया था।

# मिट्टी का किला

यह पहले मिट्टी का किला हुआ करता था, जिसे काकतीय शासकों ने बनाया था। आगे चलकर कुतुब शाही राजवंश ने इसे ग्रेनाइट के पत्थरों से बनाया।

# बाला हिसार पवेलियन

किले में बाला हिसार पवेलियन एक जगह है, जो इस किले का सबसे ऊंचा बिंदु है। इसके एंट्रेंस पर ताली बजाते ही अंदर पवेलियन तक आवाजें आती हैं।

# फतेह दरवाजा

गोलकोंडा किले में आठ महत्वपूर्ण द्वार हैं। उन्हीं में से एक फतोह दरवाजा है, जिससे औरंगजेब की सेना ने प्रवेश किया था।

# राजवंशों का शासन

कई राजवंशों ने साल भर के भीतर गोलकुंडा पर शासन किया, जिनमें काकतीय शासक, बहमनी सुल्तान, कुतुब शाही राजवंश और मुगल साम्राज्य शामिल थे।

# यूनेस्को विश्व धरोहर

भारत के टेंटेविव लिस्ट में गोलकोंडा किले को विश्व धरोहर स्थल के रूप में शामिल किया गया है।

# फेमस लाइट एंड साउंड शो

यहां होने वाला लाइट एंड साउंड शो तीन-तीन भाषाओं में होता है- अंग्रेजी, हिंदी और तेलुगू। फोर्ट के इस साउंड एंड लाइट शो का प्रवेश शुल्क 130 रुपये है।

उम्मीद है आपको 400 साल पुराने इस किले के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा। ऐसी रोचक और ऐतिहासिक किलों के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहें herzindagi.com