दुनिया के टॉप गगनचुंबी स्टैचू


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    महान हस्तियों की याद में या उन्हें सम्मान देने के लिए दुनियाभर में स्टैचू लगाए जाते हैं। आज हम आपको दुनिया की सबसे ऊंची स्टैचू के बारें में बताएंगे।

स्टैचू ऑफ यूनिटी, भारत

    गुजरात में बनी स्टैचू ऑफ यूनिटी, दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है। 182 मीटर ऊंची यह प्रतिमा भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की है।

स्प्रिंग टेंपल बुद्धा, चीन

    चीन में स्थित स्प्रिंग टेंपल बुद्धा दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची प्रतिमा है। इसकी ऊंचाई 128 मीटर है। इस प्रतिमा को बनने में करीब 11 साल का समय लगा था।

उशिकु दाईबुत्सु, जापान

    जापान में स्थित उशिकु दाईबुत्सु प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमाओं में से एक है। कांस्य से बनी इस प्रतिमा की ऊंचाई 120 मीटर है।

लैक्युन सैक्या, म्यांमार

    म्यांमार में स्थित लैक्युन सैक्या दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमाओं में गिनी जाती है। इसकी ऊंचाई 115.8 मीटर है। इस प्रतिमा का निर्माण 1996 में शुरू हुआ था और 2008 में पूरा हुआ।

गुयान यिन नानशान, चीन

    चीन की गुयान यिन नानशान प्रतिमा की ऊंचाई 108 मीटर है। इस प्रतिमा में तीन अलग-अलग चेहरे हैं, जो तीन दिशाओं की तरफ हैं।

यान और हुआंग प्रतिमा, चीन

    ये मूर्तियां चीन के सम्राट यान और हुआंग की याद में बनाई गई हैं। इन प्रतिमाओ को पत्थर से तराशकर बनाया गया है। इनकी ऊंचाई 106 मीटर है।

पीटर द ग्रेट स्टैचू, रूस

    रूस के मास्को में स्थित पीटर द ग्रेट स्टैचू की ऊंचाई 98 मीटर है। यह स्टैचू रूस पर 43 साल तक शासन करने वाले शासक पीटर फर्स्ट की याद में बनाया गया था।

स्टैचू ऑफ लिबर्टी, न्यूयॉर्क

    अमेरिका के न्यूयॉर्क में बनी स्टैचू ऑफ यूनिटी प्रतिमा दुनिया के फेमस स्टैचू में से एक है। 1886 में बनी इस प्रतिमा की ऊंचाई 93 मीटर है।

ग्रेट बुद्धा ऑफ थाइलैंड

    थाइलैंड की ग्रेट बुद्धा स्टैचू दुनिया की ऊंचाई प्रतिमाओं में शामिल है। इसका निर्माण 1990 में शुरू हुआ था और 2008 में पूरा हुआ। इस प्रतिमा की ऊंचाई 92 मीटर है।

द मदरलैंड कॉल्स, रूस

    रूस के वोल्गोग्रैड में बनी यह प्रतिमा यूरोप की सबसे ऊंची प्रतिमा है। इसकी ऊंचाई 85 मीटर है। यह प्रतिमा 1959 से 1967 तक बनकर तैयार हुई थी।

चेंदाई दाईकैनन, जापान

    जापान में स्थित चेंदाई दाईकैनन प्रतिमा की ऊंचाई 100 मीट है। यह प्रतिमा जापानी बौद्ध बोधिसत्व का प्रतिनिधित्व करती है।

दाई कैनन ऑफ किता नो मियाको पार्क

    1989 में जापान में निर्मित भगवान बुद्ध की 88 मीटर ऊंची यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा थी। 1991 तक इसके पास दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा होने का रेकॉर्ड था।

रोडिना मैट जोव्योट

    यह यूरोप की सबसे ऊंची प्रतिमा है। इसमें मातृभूमि की प्रतीक एक महिला की प्रतिमा है। 85 मीटर ऊंची यह प्रतिमा रूस में है।

    स्टोरी अच्छी लगी हो तो शेयर करें। साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी जानने के लिए जुड़े रहें herzindagi.com से।